लिनक्स क्या हैं और इसको कैसे सीखे? (What is Linux and How to learn ?)

Objective

इस पोस्ट में हम जानेंगे लिनक्स क्या हैं और इसको कैसे सीखे?

लिनक्स क्या हैं ? ( What is Linux ? )

लिनक्स क्या होता है, ये जाने से पहले आपको जाना होगा की ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) क्या होता है.

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या होता है ( What is the Operating System ? )

हम सब किसी न किसी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस का उसे करते है जैसे की फ़ोन ( Phone ), टेबलेट्स ( Tablets) , कंप्यूटर ( Computer) , स्पीकर ( Speaker) , वाशिंग मशीन ( Washing Machine) etc।

ये सब चीज़े हार्डवेयर है लेकिन हम लोग कुछ सेट्स ऑफ़ इंस्ट्रक्शंस( Instructions) से इनको कण्ट्रोल कर सकते है ! जैसे ह्म्म फ़ोन आसानी से इस्तेमाल कर लेते है , वाशिंग मशीन पे टाइमर सेट कर देते है।

ये जो कण्ट्रोल हमे दिया गया यही ऑपरेटिंग सिस्टम ( Operating System ) होता है

जो एक तरह से हमारे दिए हुए इशारे को मशीन को समझता है। वैसे ही कंप्यूटर के हार्डवेयर को समझने क लिए ऑपरेटिंग सिस्टम ( Operating System) होता है

सॉफ्टवेयर क्या होता है ( What is Software ? )

हम अलग अलग तरह से इंस्ट्रक्शंस (Instructions) कंप्यूटर को दे सकते है, हमारी भाषा में समझ के कंप्यूटर को उसकी भाषा में समझने वाले प्रोग्राम ( Program ) को सॉफ्टवेयर कहते है !

कंप्यूटर को सिर्फ ( 0101 ) बाइनरी लैंग्वेज ( Binary Language) ही समझ में आती है

इसलिए हार्डवेयर को समझाने के लिए ग्रुप्स ऑफ़ सॉफ्टवर्स ( Group of Software’s) बनते है जिनके कलेक्शन को भी कभी कभी ऑपरेटिंग सिस्टम कह दिया जाता है

जैसे आप लोगो के फ़ोन में अलग अलग app( software), वो फ़ोन के हार्डवेयर को अलग अलग चीज़े करने को कहते है ! मार्किट में कई तरह के ऑपरेटिंग सिस्टम हे , जो उनमे सबसे पॉपुलर हे वो है लिनक्स ( Linux ) एंड विंडोज ( Windows )।

Pros (फाईदे) & Cons(नुक्सान) of Linux


लिनक्स ( Linux ) हाल ही में काफी पसंद किया जाने लगा है उसके कई फैयदे भी है. एक तो ये फ़्री में इस्तमाल कर सकते है, इसको कोई भी आसानी से इस्तेमाल कर सकता है।

दूसरा ये आपको इतना कण्ट्रोल ( Control ) देता है की आप खुद भी अपने इंस्ट्रक्शंस ( Instructions ) इसमें लिख सकते है और हार्डवेयर को अपने कहे पे चला सकते हो ।
लेकिन ये फ्री होने की वजह से इसमें नई सॉफ्टवर्स ( Software ) थोड़ा सा देरी आते है।

Pros (फाईदे) & Cons(नुक्सान) of Windows

दूसरी तरह विंडोज में ऐसा नहीं हे वो आपको फ्री ( Free ) नहीं मिलता है दूसरा वो आपको इतना कण्ट्रोल (Control) भी नहीं देता हे की आप खुद की इंस्ट्रक्शंस ( Instructions ) लिख सके।
ये भुगतान किया ( Paid) होने के वजह से लोग नई सॉफ्टवेयर इसमें जल्दी ले आते है।

वैसे इन दोनों ऑपरेटिंग सिस्टम में और भी काफी अंतर है , आपको ये अंतर wikipedia पे आराम से मिल जाएंगे इसलिए में उन चीज़ो को डिटेल में यहाँ नहीं लिख रहा हु ! ये पोस्ट में हम् सीखेंगे की लिनक्स ( Linux ) को हम् कैसे सीख सकते हे।

लिनक्स कैसे सीखे ? Free Websites to Learn Linux

आप लोगो को लग रहा होगा की इसके लिए कंप्यूटर होना जरुरी होगा पर ऐसा नहीं हे।में यहाँ पे आपको ऐसी Websites के बारे में भी बताऊंगा जहा पे जाके आप लिनक्स सिख सकते हे। ये आप अपने फ़ोन या किसी साइबर कैफ़े में थोड़ा सा बैठ के भी सिख सकते है।

हर ऑपरेटिंग सिस्टम में एक कमांड लाइन इंटरफ़ेस ( जहा पे आप इंस्ट्रक्शंस देते हो ) उसको Terminal भी कहा जाता है वो जरूर होता है. ये वेबसाइट आपको टर्मिनल दे देंगी जहा पे आप अपनी इंस्ट्रक्शंस ( Command – कमांड ) लिख के चला सकते है।

ऑनलाइन वेबसाइट का उपयोग कैसे करें (How to use Online Website)

https://bellard.org/jslinux/ Free Websites to Learn Linux

Free Websites to Learn Linux ( Terminal )

( सबसे उपयोगी लिनक्स कमांड) Most Useful Linux Commands

ls

Help कमांड आपको हर जगह काम आएगी। इससे आप ये जान सकते हो के किसी भी कमांड को कैसे चलाया जाता है और उसको कितनी तरह से, किस किस इस्तेमाल के लिए चलाया जाना चाहिए


जब भी आपको लगे की आप कमांड को नहीं समझ पा रहे हो, की कैसे चलाये तो आप उस कमांड के आगे –help लिख दो ।Terminal आपकी मदद करेगा उस कमांड को समझने में।


जैसे की ls कमांड, आपको list of items ( जो भी आपके फोल्डर में चीज़े रखि है उनकी सूचि देता है) लेकिन अगर आप ये भी जाना चाहते हो की चीज़ का क्या प्रकार है तो आप -l option इस्तेमाल कर सकते हो )

cd –help

change directory इसका मतलब होता है की आप एक जगह से किसी दूसरी जगह जाना चाहते हो अपने कंप्यूटर में।

आपको इस कमांड के आगे लिख के बताना होता हे की आप कहा जाना चाहते हो

mkdir folderName

make directory का मतलब होता है make directory मतलब आप एक फोल्डर बनाना चाहते हो

cat fileName

इस कमांड से आप ये देख सकते हो की किसी भी फाइल में क्या लिखा हुआ है,

अगर आप फाइल को उल्टा पढ़ना चाहते हो तो आप tac fileName लिखे के देखो आपको ये फाइल उलटी पढ़ के बताएगा

mv currentName futureName

मूवमेंट इस कमांड से आप किसी भी चीज़ का नाम बदल सकते हो।चाहे वो फाइल हो या कोई फोल्डर जिसमे बोहत सारी दूसरी फाइल्स रखी हो

cp source destination

copy ( ये कमांड आपको चीज़ो एक जगह से copy करके दूसरी जगह रखने में हेल्प करती हे )

find fileName

find इस कमांड का इस्तेमाल करके आप पूरी कंप्यूटर में किसी भी चीज़ को ढूंढ सकते हो। आपको हर जगह जाके बार बार देखने की जरुरत नहीं पड़ेगी।

chmod 777 fileName

chmod ( change mode) इसका मतलब ये हे की आप अपनी फाइल या फोल्डर को अलग परमिशन देना चाहते हो ,

जैसे अगर आप नहीं चाहते की आप के अल्वा कोई और आपकी फाइल को पढ़ सके या सिर्फ पढ़ सके पर उसमे कुछ बदलाव न कर सके

wc fileName

word count – एक फाइल में आपने कितने शब्द , कितनी लाइन्स लिखी है ये सब इस कमांड से पता चल सकता है )

Dosto Linux की और भी बहुत commands है जो आपको सीखनी चाहिए , आप लोग बताई हुई वेब्सीटेस पे जाके इन कमांड्स के साथ स्टार्ट कर सकते हे और धीरे धीरे हम और भी कमांड्स के बारे में जानेंगे।

आप लोग इन commands को जरूर देखना, अगली कुछ post में काफी इंटरेस्टिंग चीज़े आने वाली है।

अगर आप e-learning एंड e-training के बारे में जाना चाहते हे तो यहाँ पढ़े https://bhuvats.com/e-training-or-e-learning/

आप लोगो को ये पोस्ट कैसे लगा मुझे जरूर लिख के बताइयेगा। या किस चीज़ के बारे में आपको जानकारी चाहिए मुझे लिख के बताना।

Share this...
Share on Facebook
Facebook

Leave a Comment

error: Content is protected !!